Followers

Thursday, March 13, 2014

"दूषित हुआ वातावरण" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

मेरे काव्यसंग्रह "सुख का सूरज" से 
   
"दूषित हुआ वातावरण"
सभ्यता, शालीनता के गाँव में, 
खो गया जाने कहाँ है आचरण? 
कर्णधारों की कुटिलता देखकर, 
देश का दूषित हुआ वातावरण। 

सुर हुए गायब, मृदुल शुभगान में, 

गन्ध है अपमान की, सम्मान में, 
आब खोता जा रहा है आभरण। 
खो गया जाने कहाँ है आचरण? 

शब्द अपनी प्राञ्जलता खो रहा, 

ह्रास अपनी वर्तनी का  हो रहा, 
रो रहा समृद्धशाली व्याकरण। 
खो गया जाने कहाँ है आचरण? 

लग रहे घट हैं भरे, पर रिक्त हैं, 

लूटने में राज को, सब लिप्त हैं, 
पंक से मैला हुआ सब आवरण। 
खो गया जाने कहाँ है आचरण?

2 comments:

  1. बहुत सुंदर प्रस्तुति.
    इस पोस्ट की चर्चा, शनिवार, दिनांक :- 15/03/2014 को "हिम-दीप":चर्चा मंच:चर्चा अंक:1552 पर.

    ReplyDelete

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।