Followers

Tuesday, January 7, 2014

"कुहरा और सूरज" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

मेरे काव्यसंग्रह "सुख का सूरज" से
एक गीत
"कुहरा और सूरज"
 15012010056
कुहरे और सूरज में,जमकर हुई लड़ाई। 
जीत गया कुहरा, सूरज ने मुँहकी खाई।। 

ज्यों ही सूरज अपनी कुछ किरणें चमकाता, 
लेकिन कुहरा इन किरणों को ढकता जाता, 
बासन्ती मौसम में सर्दी ने ली अँगड़ाई।
जीत गया कुहरा, सूरज ने मुँहकी खाई।। 

साँप-नेवले के जैसा ही युद्ध हो रहा, 
कभी सूर्य और कभी कुहासा क्रुद्ध हो रहा,
निर्धन की ठिठुरन से होती हाड़-कँपाई। 
जीत गया कुहरा, सूरज ने मुँहकी खाई।। 

कुछ तो चले गये दुनिया से, कुछ हैं जाने वाले, 
ऊनी वस्त्र कहाँ से लायें, जिनको खाने के लाले, 
सुरसा के मुँह सी बढ़ती ही जाती है मँहगाई। 
जीत गया कुहरा, सूरज ने मुँहकी खाई।।

2 comments:

  1. आपकी इस ब्लॉग-प्रस्तुति को हिंदी ब्लॉगजगत की सर्वश्रेष्ठ कड़ियाँ (3 से 9 जनवरी, 2014) में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,,सादर …. आभार।।

    कृपया "ब्लॉग - चिठ्ठा" के फेसबुक पेज को भी लाइक करें :- ब्लॉग - चिठ्ठा

    ReplyDelete
  2. बहुत बढ़िया

    ReplyDelete

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।